Greedy Mother लालची माँ – Best Moral Story In Hindi

आज की कहानी एक ऐसी माँ की है, जिसका नाम बिंदु है, जिसके सपने बहुत बड़े है और उसमे लालच बहुत ज्यादा | बिंदु का कोई बेटा नहीं था, उसकी केवल एक बेटी थी| जो सिलाई कड़ाई के काम में बहुत आगे थी| जिसका नाम राशि था, वह कैसा भी कपडा हो वो उस कपडे से एक से एक शानदार Designer शूट सिल देती थी| इसी के कारण आप पास की सभी महिलाये उसी से कपडे सिलवाने आती | सिलाई से जो भी पैसे आते उन पैसो से खुद के लिए वो कुछ नहीं खरीदती और सारे पैसे अपनी माँ को दे देती | पर उसकी माँ की जरूरते कुछ बड़ी थी, वो अपनी बेटी से कहती राशि बेटा तुम ये काम करा करती हो, इसमें तो कुछ ज्यादा पैसे नहीं मिलते, ऐसा कुछ काम करो जिससे बहुत अधिक पैसे आये ताकि हम एक बड़ा घर खरीद सके | राशि अपनी माँ से कहती – माँ ये भी काम कुछ बुरा नहीं है, इसमें भी तो अच्छे पैसे आ जाते है, हमारा घर का खर्चा अच्छे से चल तो जाता है और उसमे से हम कुछ पैसे बचा भी लेते है |

राशि की उम्र शादी के लायक हो गयी थी| उसकी माँ उसके लिए एक अमीर लड़ता ढूंढ रही थी, एक दिन वो किसी लड़के की फोटो लेकर राशि के पिता के पास पहुंची | देखो जी मैंने अपनी बच्ची के लिए एक बड़े घर का लड़का देखा है, महीने के लाखों कमाता है, कुछ लाख अगर इधर उधर भी हो गए तो उन्हें कोई फरक नहीं पड़ता, इतने अमीर है वो | राशि के पिता उस लड़के की फोटो देखते है, वो लड़का राशि के उम्र में कुछ ज्यादा ही बड़ा था | राशि के पिता इस रिश्ते से मना कर देते है, तो राशि की माँ नाराज होकर घर छोड़ने की बात कहती है | माँ की जिद के कारण राशि शादी के लिए हाँ कर देती है| कुछ ही दिनों में उसकी शादी हो जाती है और वो ससुराल चले जाती है| इतने दिनों बाद माँ से मिलकर राशि बहुत खुश होती है, और उनसे आने का कारण पूछती है | पहले तो उसकी माँ इधर उधर की बात करती है फिर धीरे से वो राशि से पैसो की बात करती है |

पैसो की बात सुनकर राशि कहती है – माँ मेरे पास पैसे कहा से आएंगे, अब तो मैं सिलाई का काम भी नहीं करती | फिर उसकी माँ कहती है, तेरे बाबू जी की दवाइयाँ लाने के लिए चाहिए थे, तू अपने पति से माँग ले ना | पर राशि एक स्वाभिमानी लड़की थी, बात उसके सम्मान की थी, उसने पति से पैसे मांगने से मन कर दिया और उसे मुँह दिखाई में मिले उसके पास कुछ पैसे रखे थे, वो पैसे लाकर अपनी माँ को देती है | पर उसकी माँ कहती है इतने से पैसो से क्या होगा इतने पैसो से तो केवल १० दिन की ही दवा आ पाएगी | राशि अपनी माँ से कहती है – अभी ये पैसे ले जाऊ और १० दिन की ही दवा ले लेना, तब तक में कुछ पैसो का और इंतेजाम करती हूँ | राशि को अब पैसो की बहुत जरुरत थी, वो अपने पति से पैसे नहीं मांगना चाहती थी | इसलिए उसने फिर से अपनी सिलाई का काम शुरू कर दिया, वो अपनी सांस से छुपकर अपने कमरे में सिलाई का काम करती थी | इस काम के बारे में किसी को कुछ पता नहीं था, सिवाय उसके पति को | उसका पति बहुत अच्छा था, उसने राशि के कोई सवाल नहीं किया और उसे वो काम करने दिया | कुछ दिनों बाद फिर से उसकी माँ पैसो ले लिए आयी, राशि ने अपनी सिलाई के पैसे अपनी माँ दिए और उन्हें इसतरह बार बार पैसे पहुँचाती | राशि इस काम के लिए खूब मेहनत करती थी, वो रात में जागकर सिलाई का काम करती थी | इस कारण एक दिन वो अचानक चक्कर खाकर गिर पड़ी |

घर पर उसकी सांस थी, उसने डॉक्टर को बुलाया और राशि के घर पर पर फ़ोन लगाकर उन्हें बुलाया | डॉक्टर को बुलाने के भी कुछ समय तक राशि को होश नहीं आया, उसकी माँ अपनी बेटी की ऐसी हालत देखकर रोने लगी और उसके ससुराल वालो को चिल्लाने लगी और कहने लगी | अरे तुमने ये मेरी बेटी की क्या हालत कर दी, अगर मेरी बेटी को कुछ हो गया तो मैं तुम्हारा सब कुछ बिकवा कर तुम्हे रोड पर ला दूंगी | तभी राशि का पति सबको राशि की सिलाई के बारे में बताता है, पर वो नहीं जानता था की वो ऐसा क्यूँ करती है | कुछ समय बाद राशि को होश आता है, सब उसका हाल-चाल पूछते है, हाल-चल पूछकर सभी कमरे से बाहर चले जाते है| अब कमरे में केवल राशि के पिता और उसकी माँ होती है | राशि की माँ और उसके पिता उससे कहते है बेटी अगर तुझे कुछ हो जाता तो हमारा क्या होता, तेरा पति बता रहा था तू देर रात सिलाई करती है, आखिर इतनी रात तक तू सिलाई क्यूँ करती है तेरे पति के होते हुए तुझे क्या ऐसी जरुरत पड़ गयी – राशि के पिता उससे पूछते है|

राशि अपने माँ और पिता से कहती है – आपको पैसो की इतनी जरुरत थी इसलिए मैं सिलाई का काम करती थी, माँ ने बताया आपकी दवाई के लिए पैसे चाहिए तो मुझे ये सब करना पड़ा | राशि के पिता उसकी माँ पर बहुत गुस्सा होते है, क्यूंकि वो उनके बहाने अपनी बेटी से पैसे लेती थी, राशि की माँ को अपनी गलती का एहसास होता है और राशि और उसके पिता से माफ़ी मांगती है | उसे सिख मिल गयी थी कि उसका इतना लालच करना उसकी लिए कितना भारी पड़ सकता था |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *